Indian Language TTS

भारतीय भाषा टेक्स्ट टू स्पीच सिंथेसिस सिस्टम

वे बच्चे जो बार-बार बीमार पड़ जाते हैं, जल्दी थक जाते हैं, धीमी गति से चीज़ों को समझते हैं, वे कुपोषण से ग्रस्त हो सकते हैं। बच्चे के जन्म से लेकर 2 साल की आयु तक उसके कुपोषण से ग्रस्त होने की सम्भावना अधिक होती है।

भाषा अंग्रेजी

Agriculture is known to be one of the most significant economic activities. It involves the production of plants, livestock, fiber, fuel and more by utilizing natural resources such as water and land.

भाषा बंगाली

ষোলো বছর পর্যন্ত শিশুদের নিখরচায় আবশ্যিক শিক্ষার ব্যবস্থা করার কথা সংবিধানেই বলা আছে। গত এক দশকের প্রচেষ্টা এবং শিশুদের নিখরচায় আবশ্যিক শিক্ষার অধিকার আইন, ২০০৯ রুপায়ণের মাধ্যমে সাক্ষরতার হারে ভারত উল্লেখযোগ্য উন্নতি করেছে।

भाषा तमिल

தகவல் மற்றும் தொலைத் தொடர்புத் தொழில்நுட்பமானது கல்வி துறையில் மிக முக்கியமான அங்கமாகும். இது கல்வி சார்ந்த நடவடிக்கைகளுக்கு பல்வேறு தொழில்நுட்பங்களை அளித்து கற்றல் சூழலை மேம்படுத்தியுள்ளது.

भाषा तेलगु

భారతదేశం లో విద్య వేల సంవత్సరాల పూర్వంనుండి తన వైభవాన్ని కలిగి ఉన్నది. ప్రాచీన కాలంలో నలంద, తక్షశిల మొదలగు విశ్వవిద్యాలయాలను పరిశీలిస్తే, భారత్ లో విద్య, విజ్ఞానము సర్వసాధారణమని గోచరిస్తుంది.

भाषा कन्नड़ा

ಇಂದಿನ ತಾಂತ್ರಿಕ ಯುಗದಲ್ಲಿ ಮಾಹಿತಿ ವ್ಯವಹಾರ ತಂತ್ರಜ್ಞಾನವು ಶಿಕ್ಷಣ ಕ್ಷೇತ್ರದಲ್ಲಿ ಉಳ್ಳವರ ಮತ್ತು ಇಲ್ಲದಿರುವವರ ನಡುವಿನ ಅಂತರವನ್ನು ಅದರಲ್ಲಿಯೂ ಗ್ರಾಮೀಣ ಭಾರತದಲ್ಲಿ – ಕಡಿಮೆ ಮಾಡುವಲ್ಲಿ ನಿರ್ಣಾಯಕ ಪಾತ್ರವನ್ನು ವಹಿಸಿದೆ. ಇಂಡಿಯಾ ಡೆವಲಪ್ ಮೆಂಟ್ ಗೇಟ್ ವೇ, ಇದರ ಪ್ರಾಥಮಿಕ ಶಿಕ್ಷಣ ವಿಭಾಗವು, ಭಾರತದಲ್ಲಿ ಪ್ರಾಥಮಿಕ ಶಿಕ್ಷಣದ ಸಾರ್ವತ್ರೀಕರಣದ ಲಕ್ಷ್ಯವನ್ನು ಸಾಧಿಸಲು

भाषा मलयालम

കത്രിയോന ഗ്രേയിലൂടെ വിശ്വസുന്ദരിപ്പട്ടം നാലാം വട്ടവും ഫിലിപ്പീൻസിലേക്ക്.

Language Marathi

शिक्षण क्षेत्रात माहिती व दळणवळण तंत्रज्ञानाची महत्वाची भूमिका आहे. शैक्षणिक उपक्रमामध्ये तंत्रज्ञान हे महत्वाची भूमिका बजावते. आयसीटी हि शैक्षणिक उपक्रम एकत्रित करण्याचे काम करते आणि शैक्षणिक वातावरण वाढविण्यासाठी मदत करते.

Language Odia

ମା ଟିଏ ଶିକ୍ଷିତ ହେଲେ ସାରା ପରିବାର ଶିକ୍ଷିତ ହୋଇଯାଏ ‘ ସେହି ଦୃଷ୍ଟିରୁ ଆଜି ବାଳିକା ମାନଙ୍କର ଶିକ୍ଷାକୁ ବେଶି ଗୁରୁତ୍ଵ ଦିଆଯାଉଛି । ସହରାଞ୍ଚଳଠାରୁ ଦୂର ଦୂରନ୍ତ ଆଧିବାସୀ ଅଧୁସିତ ଅଞ୍ଚଳ ରେ ମଧ୍ୟ ସରକାରୀ ବାଳିକା ବିଦ୍ୟାଳୟ ମାନ ପ୍ରତିଷ୍ଠା କରାଯାଇଛି , ଯେଉଁ ଥିରେ ବାଳିକାମାନଙ୍କ ପାଇଁ ରହିବା ଖାଇବାର ବ୍ୟବସ୍ଥା କରାଯାଇଛି । ତାହାରି ଫଳ ଯୋଗୁଁ ବାଳିକା ସ୍ଵାକ୍ଷରତା ହାର ବଢିଛି, ଅନେକ ଅନୁଷ୍ଠାନରେ ବାଳିକା ମାନଙ୍କ ସଫଳତା ର ହାର ବାଳକମାନଙ୍କ ଠାରୁ ଉପରେ ଓ ସମାଜର ପ୍ରତ୍ୟେକ କ୍ଷେତ୍ରରେ ବାଳିକା ମାନେ